एक गे दोस्त की कहान...
 
Notifications
Clear all

एक गे दोस्त की कहानी  

  RSS
 Anonymous
(@Anonymous)
Guest

कुछ दिनोँ से मेरा हाल बहुत ही बोरिँग ना कोई मस्ती ना कुछ
मै शाम को अपनी छत पर बैठा बैठा पोर्न साइड पर कहानिया पड रहा था तभी मेरा दोस्त आ टपका
और मेरे मूड की मदर सिस्टर कर दी
सोनू - यार गौरव क्या कर रहा है
गौरव - अबे काहे हमारे सपनो मेँ आ के आग लगा जाते हो वे

सोनू - यार ये कहने आये थे वो भाभी का फोन आया था
गौरव - अबे कौन सी भाभी
सोनू- बही जो आशू की शादी मे आई थी
और तुझे अपने आपने 52 ईची के हतगोले दिखा रही थी
गौरव - मुद्दे की बात कर
सोनू - अरे यार बडे दिन से गर्मी भरी है जब से मधु की शादी हो गई और बो चली गई तब से आग लगी है चल न देख ते है
यार तेरे को उसका नम्बर किसने दिया
तुझे इससे क्या करना है तो दूध पी दूध मे पकड
चल लगा बे
र्टिन र्टिन
हल्लो कौन
आप कौन
मै सोनू बात कर रहा हूँ
अच्छा अच्छा बोलिये क्या चाहते है
क्या चाहते का क्या मतलब
भाभी - आप ने फोन क्यो किया
सोनू - यार गौरव ये तो मेरी मार रही है
ला फोन ला
गौरव - हाँ जाने मन तेरा आशिक बोल रहा हूँ
भाभी - आप कौन
गौरव - भूल गयी आशू की शादी मेँ
सैम (बदला हुआ नाम ) बोल रहा हूँ
भाभी ओ मेरे राजा तुम हो
और बो कौन था
बो मेरा दोस्त
खैर क्या कर रही हो
कुछ नही बस लेटी थी
कभी हमारे भी लेटो भाभीजी
जरूर बताओ कब मिलते है
गौरव जब तुम कहो जान
बैसे भी मेरा कालिया बडा फूनक रहा है

Quote
Posted : 11/09/2011 2:39 am
 Anonymous
(@Anonymous)
Guest

अबे मैने भाभी को 3 दिन बाद एक होटल मै बुलाया और बो मान गई
3 दिन जब भाभी बो होटल मेँ उस रूम मेँ आई तो उनके चेहरे का नूर एक दम से गायब हो गया
बो देखती है मेरे साथ उनके पति बैठे है अब भाभी की दिल की धडकने बड गई और बो रोने लगी
बिशाल पति का नाम
बिशाल मुझे माफ कर दो मुझे माफ कर दो
बिशाल ने भाभी के ऊपर हाथ उठाया लेकिन मैने उसका हाथ रूका
बिशाल दोस्त आपने मेरा हाथ क्यो रोका
गौरव यार एक बात बताओ तो दिन मै कितनी लडकियो को देखते हो कितनो को सेट करते हो और कितनो के सान अय्याशी करते हो
बिशाल मै तुम्हारे कहने का मतलब नही समझा
गौरब सुनो दोस्त अगर हम गलती करते है तो उन्हे सुधारते है लेकिन कोई अपना गलती करता हो तो उसे माफ करके उसका साथ नही देते
माना के भाभी से गलती हुई है लेकिन इस गलती के जिम्मेदार कही कही तुम भी हो
तुम्हारा पूरा अकाउंट रखा है मेरे पास अगर बोलूगा तो ये ही तुम्हरी बीबी छोड के जायेगी
चलो छोडो अब नई जिन्दगी शुरू करो
बो भाभी मेरी तरफ बडे गौर से देखे जा रही थी तो मैने कहाँ
अपनी जिन्दगी को सम्भालो
भाभीजी मैँ तो कुछ देर का साथी बनता लेकिन तुम्हारा असली जीबन साथी तो बिशाल है

ReplyQuote
Posted : 11/09/2011 2:39 am
 Anonymous
(@Anonymous)
Guest

ये बाक्य हो जाने के बाद गौरव अपने घर चला गया
बहाँ सोनू उसके इन्तजार मैँ बैठा था
सोनू यार तूने तो भाभी की बाट लगा दी होगी
क्या मिला आपको
गौरव दोस्त मैने खोया भी नही
और सुना
क्या सुनाऊ
सोनू यार हमारे डाटा टेक कोचिँग मै एक लडका है निखिल उसने कल मुझसे तुम्हारे बारे मेँ पूछ रहा था
गौरव क्या पूछ रहा था
कुछ खास नही कह रहा था कि गौरव कहाँ रहता है क्या करता है गौरव तो तूने क्या कहा
सोनू कुछ नही
चल छोड चल
पार्क चलते है
गौरव ठीक है मै बाइक निकाल ता हूँ
यार पहले पट्रोल भरवा लूँ थोडा ही बचा है पार्क तक जाते जाते खतम हो जायेगा
सोनू ठीक है चल पट्रोल पम्प
सयोग से पट्रोल पम्प पर निखिल मिल जाता है
निखिल ओ हाये सोनू जी
सोनू अरे यार तो यहा कैसे
बो मै पट्रोल भरबाने आया था
और आप
मै तुम्हारी भाभी को लेने आया था
क्या सोनू जी मजाक करते है
गौरव निखिल ने मेरी तरफ देखा ओर कुछ बोलना चाहा पर मै दूसरी तरफ फेस कर लिया
दोस्तो मुझे नही मालूम के निखिल कौन है और उसके दिमाग मै क्या चल रहा था
फिर सोनू ने निखिल से कहाँ की बो हमारे साथ पार्क चले लेकिन निखिल को कही जाना था
और बो सुबह कम्प्यूटर कोचिँग मेँ मिलते है यह कह कर चल गया

ReplyQuote
Posted : 11/09/2011 2:40 am
 Anonymous
(@Anonymous)
Guest

वक़्त कैसा भी हो निकल जाता है
संग भी एक रोज पिघल जाता है

सलीके से मिला करो उस से तुम
खुदा भी अपने रंग में ढल जाता है

वो मेरे साथ क्या चल देती है जरा
ये जमाना कमबख्त जल जाता है

हौसला बाजुओं में हो जिनके यहाँ
तूफां भी उनसे रुख बदल जाता है

क्या मिलाएगा अब आँख मुझसे वो
बेवफा है, मुँह छुपा निकल जाता है

बर्क उमर भर नही होती फलक पे
बरसात हुई के सावन टल जाता है

कौन समझेगा कभी वो भी जज्बे
इसी भरोसे पे ही आजकल जाता है.

ReplyQuote
Posted : 11/09/2011 2:58 am